झूल रहा है तन्हाई का झूला
घुटन के झूले में
महसूस करता हूं उन हवाओं को
आज भी जिनसे
तेरी खुशबू आती है....@

Hindi Shayri by Abbas khan : 111931607

The best sellers write on Matrubharti, do you?

Start Writing Now