माना के नजर हमारी बुरी है
पर तुम भी तो कुछ कम नहीं
करती हो नुमाइश सरेआम जीस्म की
तब आती क्यों तुमको शरम नहीं.

गजेन्द्र

Hindi Whatsapp-Status by Gajendra Kudmate : 111931659

The best sellers write on Matrubharti, do you?

Start Writing Now