*मिल जाए उलझनो से फुरसत तो जरा सोचना,*

*क्या सिर्फ फुरसतों मे याद करने तक का रिश्ता है हमसे.....

Hindi Quotes by nihi honey : 968
Laxman Singh 6 year ago

समझ नही आता वफा करे ...... तो किस से करे मिट्टी से बने लोग ..... कागज के टुकडों मे बिक जाते है

New bites

The best sellers write on Matrubharti, do you?

Start Writing Now