I am reading and writing on MB besides for Delhi Press English and Hindi magazines.

सब को खुश रखने में अपनी ख़ुशी तमाम किया

आज जिंदगी हँस के कह रही है हम से

तू बड़ा नादां है ये क्या काम किया

रक्षा बंधन की शुभकामनाएं



लगा कर माथे पर चंदन और रोली

कलाई पर बाँध कर रेशम की डोरी

माँगा है बहना ने भाई से प्यार

मुबारक हो सबको राखी का त्यौहार

Read More

"There's no other love like the love for a brother. There's no other love like the love from a brother." -Astrid Alauda



Happy Raksha Bandhan

रिमझिम बारिश में मिला है मेरा मीत

दिल मेरा गाने लगा ख़ुशी के गीत

बारिश की बूँदें भी दे रहीं मधुर संगीत

दो दिलों में जागी है नयी नयी प्रीत

बरखा रानी जरा जम के बरसो

Read More

Great lines from Sahir

epost thumb

जब से मेरी जिंदगी में तुम आये सनम

नहीं पड़ते हैं जमीं पर मेरे कदम

न जाने किस दुनिया में खोये हैं हम

रखने है कहीं और कहीं रखते हैं कदम

Read More

जब सावन में झूलें पेड़ के नीचे

गोरे गोरे हाथों में मेहँदी लगा के

क्या कहने जब प्रीतम झुलाये झूले

एक हास्य लघु कथा

एक कंजूस ईसाई आदमी को जब डॉक्टर ने कहा “ अब तुम अपनी वसीयत कर दो . तुम कुछ ही दिनों के मेहमान हो ? “

कंजूस आदमी ने अपनी बीबी से कहा “ मैंने अपने तकिये में काफी रुपये छिपा खे हैं . डॉक्टर ने अब जवाब दे दिया है . मेरे रुपयों को मेरे ताबूत में दफन कर देना . अगले जन्म में मेरे काम आएगा . ऐसा मैंने वसीयत में लिखा है . “

उसकी कंजूसी से पत्नी भी तंग आ चुकी थी . कंजूस की मृत्यु के बाद उसकी पत्नी ने ताबूत बंद करते समय एक बंद लिफाफा उसके ताबूत में रख दिया . वकील ने औरत को वसीयत की याद दिलायी और कहा “ इनके सब रूपये आपने ताबूत में रख दिया है न ? “

“ जी , इनके सारे नोट 2000 के थे . कहीं फिर नोटबंदी न हो जाये इसी डर से मैंने सारे रुपयों का एक चेक इनके नाम लिख कर बंद लिफाफे में रख दिया है . चेक में डेट भी नहीं लिखा है ताकि अगले जन्म में डेट डाल कर ये इसे कैश कर सकें . “

😂 😂😂 😂

Read More

हाथ अगर थामा तो हम नहीं छोड़ते

वादा कर के हम नहीं तोड़ते

इसलिए हम कभी वादा ही नहीं करते

कभी हमने भी चाहा था दिल लगाना

जब ठोकर लगी तो हमने ये जाना

बड़ा बेमुरव्वत बन गया है ये ज़माना

पल भर में अपना बन जाता है बेगाना

बड़ा आसां है पलकों पे बिठा के गिराना

वफ़ा के बदले मिलता यहाँ ज़फ़ा नजराना

Read More